सतना: मुकुंदपुर स्थित व्हाईट टाइगर सफारी में सफेद बाघिन ‘विंध्या’🦊अब नहीं रही,वन्य जीव प्रेमी स्तब्ध…

सतना: मुकुंदपुर स्थित दुनिया की पहली white टाइगर सफारी में पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रही सफेद बाघिन ‘विंध्या’अब नहीं रही। विंध्या की मौत हो गई ।

इसे भी देखिये BREAKING: नहीं रही ‘सफेद बाघिन विंध्या’, बीमारी से गई जान

इसे भी देखिये रीवा-कांग्रेस सरकार बनते ही महिलाओं को 1500 प्रतिमाह आर्थिक सहायता और 500 में मिलेगा गैस सिलेंडर

इसे भी देखियेरीवा-महिला सम्मान बचत पत्र को लेकर प्रधान डाकघर ने निकाली जागरूकता रैली

सतना वन मंडल के मुकुंदपुर में बने महाराजा मार्तंड सिंह जू कम रेस्क्यू सेंटर और वाइट टाइगर सफारी की शान ‘विंध्या’ की मौत हो गई। सफेद बाघिन विंध्या पिछले काफी समय से बीमार थी। उसका इलाज चल रहा था लेकिन इस बीच 16 वर्ष की विंध्या अपने पीछे अपनी यादें छोड़ कर दुनिया से रुख्सत हो गई।

इसे भी देखिये रीवा-न्याय के लिए थाने और पुलिस अधीक्षक कार्यालय का चक्कर लगा रही महिला

इसे भी देखिये रीवा-चावल चोरी करने वाला ट्रक चालक गिरफ्तार चोरी का माल बरामद

विंध्या की मौत की खबर सुनकर वन विभाग के अधिकारी अवाक रह गए। वाइट टाइगर सफारी के निर्माण और विंध्य की धरती को दोबारा सफेद बाघों से आबाद करने का प्रयास करने वाले प्रदेश के पूर्व ऊर्जा मंत्री राजेन्द्र शुक्ला भी स्तब्ध रह गए। वे मुकुंदपुर पहुंचे और वन अधिकारियों से इस बारे में जानकारी ली।

इसे भी देखिये रीवा- मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान को लेकर कार्यालय का निरीक्षण कुर्सियां कार्यालयों में टूटी पड़ी

विंध्या को मुकुंदपुर में ही पूरे सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। प्रदेश के पंचायत राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल, सांसद सतना गणेश सिंह, रीवा के विधायक और पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला ने विंध्या को अंतिम विदाई दी।

इसे भी देखिये सतना: नशे में धुत आदमी का बाल काटने से किया मना तो…दुकानदार पर चला दिए चाकू ! 3 हुए घायल

गौरतलब है कि सफेद बाघिन विंध्या को 9 वर्ष की उम्र में सितंबर 2016 में भोपाल के वन विहार से मुकुंदपुर वाइट टाइगर सफारी लाया गया था। इसके अलावा एक सफेद बाघ रघु भी यहां था। दोनों को अलग-अलग बाड़े में रखा जाता था।

इसे भी देखिये Public Place में शराब पीने से रोका तो CID TI ने पुलिसकर्मियों से की हाथापाई,CCTV में Record हुई घटना

वाइट टाइगर सफारी में आने वाले पर्यटकों के लिए विंध्या आकर्षण का केंद्र थी। वह अक्सर पर्यटकों की बस और गाड़ियों की राह में बैठी नजर आ जाती थी। बाद में रघु और विंध्या को मेंटिंग के लिहाज से एक साथ भी रखा गया। सितंबर 2022 में भी विंध्या की तबियत बिगड़ी थी। उसने खाना छोड़ दिया था हालांकि इलाज के बाद तब वह ठीक हो गई थीI लेकिन अब की बार जब वह बीमार पड़ी तो फिर डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद उसे बचाया नहीं जा सका।

इसे भी देखिये रीवा-जनसेवा अभियान के द्वितीय चरण में शिविर में सेवा से संबंधित फ्लैक्स लगाएं– कलेक्टर

इसे भी देखिये रीवा-रेलवे परियोजना पूर्ण करने हेतु भूमि अधिग्रहण एवं मुआवजा वितरण प्राथमिकता के आधार पर करें

इसे भी देखिये रीवा-8 महीने में ही सरपंच के भ्रष्टाचार से ऊबे ग्रामीण जिला सीईओ से की शिकायत

इसे भी देखिये रीवा- रामपुर बाघेलान थाना क्षेत्र के पगरा गांव के रहने वाले डिवाइडर से टकराने से से हुआ हादसा

इसे भी देखियेरीवा-भू – माफियाओ के आतंक से परेशान पहुंचे पुलिस अधिक्षक कार्यालय लगाई न्याय कि गुहार

रीवा संभाग के आमजन और दुनिया भर भर के वन्य जीव प्रेमी इस खबर से निराश एवं स्तब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *